गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी, द्वारा “इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम” 112 का उद्घाटन किया और “प्रखर ” स्ट्रीट क्राइम पेट्रोल वैन का भी शुभारंभ किया गया

शहज़ाद अहमद / नई दिल्ली
112 इस आपातकालीन सेवाओं से यानी पुलिस, फायर एंड एम्बुलेंस के लिए एक सिंगल इमरजेंसी नंबर है। अब दिल्ली के नागरिक एक ही नंबर से यानी 112 ’डायल करके इन तीनों आपातकालीन सेवाओं की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।इस नई 112 प्रणाली में कॉल एक साथ पुलिस नियंत्रण कक्ष के साथ-साथ मोबाइल ऐप के माध्यम से कम से कम पास के पांच व्यक्तियों को पास करता है। जो जरूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए हैं। इस मुख्य कॉल सेंटर को FC-50, इंटीग्रेटेड कॉम्प्लेक्स, ऑपरेशंस एंड कम्युनिकेशन, शालीमार बाग, दिल्ली में स्थापित किया गया है। संकट में पड़ा व्यक्ति सिंगल इमरजेंसी रिस्पांस नंबर यानी 112 के माध्यम से पुलिस डायल या मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से संपर्क कर सकता है। आपातकाल के मामले में, एक व्यक्ति “आपातकालीन प्रतिक्रिया केंद्र” (ERC) पर एक पैनिक कॉल को सक्रिय करने के लिए फोन से 112 या स्मार्ट फोन पर तीन बार पावर बटन दबाने पर डायल कर सकता है। संकट के समय कॉल करने वाले को तत्काल पुलिस सहायता प्रदान करने के लिए यह कॉल तुरंत कंट्रोल रूम में पहुंच जाती है। संकट कॉल सोशल मीडिया, ई-मेल, एस एम एस आदि के माध्यम से भी किया जा सकता है।15 स्कॉर्पियो को शामिल किया। इन वैन को शुरू में 15 क्राइम प्रोन स्थानों पर तैनात किया गया है। और दिल्ली की आवश्यकताओं के अनुसार इसे और बढ़ाया जाएगा।गृह राज्य मंत्री ने कहा अपराध पर अंकुश लगाने में दिल्ली पुलिस के प्रयासों की भी सराहना की और उम्मीद है। की ये पहले नागरिकों के लिए शहर को सुरक्षित बनाएगी।इस अवसर पर दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक, ने बताया। ERSS-112 एम एच ए की एक प्रमुख परियोजना है। और यह पुलिस और अन्य नागरिक एजेंसियों की शिकायत निवारण प्रणाली का विस्तार करेगी। इन वर्षों में, दिल्ली पुलिस ने कई कदम उठाए हैं। जैसे कमजोर स्थानों की पहचान, दृश्यता में वृद्धि, स्नैचिंग विरोधी दस्ते, सभी महिला गश्त और युवा योजना इत्यादि के परिणामस्वरूप सड़को पर अपराध में 20% से अधिक की गिरावट आई है। जैसे स्नैचिंग और डकैती। सडको पर अपराध पर अंकुश लगाने के लिए “सेफ सिटी प्रोजेक्ट” के तहत “प्रखर” स्ट्रीट क्राइम कंट्रोल गश्त की परिकल्पना की गई थी।

Releated Post