दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच, IGIS ने अवैध हत्यारों के कारखाने का पर्दाफाश किया 4 आरोपी गिरफ्तार

शहज़ाद अहमद / नई दिल्ली
एक बड़ी कार्रवाई में, इंटर-बॉर्डर गैंग्स इन्वेस्टीगेशन स्क्वाड,(IGIS) अपराध शाखा द्वारका ने राजस्थान के मेवात में एक अवैध बंदूक निर्माण यूनिट का भंडाफोड़ किया है। इस संबंध में 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।जिनके नाम तालीम खान 25 वर्षभरतपुर, राजस्थान, नौमान 35 वर्ष नुह, हरियाणा,
नाजर हुसैन 33 वर्ष भरतपुर, राजस्थान,
जुबेर खान 32 वर्ष भरतपुर, राजस्थान
इनके पास से .315 बोर कैलिबर के 10 हथियार जब्त किए गए हैं। एक गैरकानूनी बंदूक निर्माण यूनिट का पता लगाया गया था। 10 अच्छी गुणवत्ता वाले तैयार किए गए देशी पिस्तौल, जिंदा कारतूस, बैरल के लिए लोहे के पाइप, हथौड़े, लकड़ी के चिप्स, स्क्रू ड्राइवर, कच्चा लोहा, ब्लेड, गार्टर, चक्की / ड्रिल मशीन, लोहे की बर्मा मशीन, सैंडपेपर, 5 किलोग्राम कोयला और एक स्विफ्ट कार जिससे अपराध में इस्तेमाल किया गया था उसे भी जब्त कर लिया।ऑडिशन सी पी डॉ अजीत कुमार सिंगला ने बताया पुलिस टीम द्वारा तकनीकी और कठिन क्षेत्र के काम के बाद, हैडकांस्टेबल मुकेश कुमार और कांस्टेबल प्रवीण ने IGIS क्राइम ब्रांच, द्वारका में तैनात गुप्त सूचना मिली कि एक अवैध हत्यारो का गैंग के सदस्य अवैध हत्यारो की बड़ी खेप की डिलीवरी के लिए छावला द्वारका क्षेत्र में आएंगे। यह जानकारी आगे विकसित की गई और क्राइम ब्रांच की एक कोर टीम ने इंस्पेक्टर रिछपाल सिंह, के नेतृत्व में की जिसमें, एस आई संजय, ए एस आई सतेंद्र, हैडकांस्टेबल सुरेंद्र, हैडकांस्टेबल मुकेश, हैडकांस्टेबल ब्रजलाल, कांस्टेबल श्याम सुंदर, कांस्टेबल धर्मराज, कांस्टेबल मिंटू,कांस्टेबल प्रवीण टीम में शामिल किया गया। और अपराधियों को पकड़ने के लिए ए सी पी मनोज पंत और,डी सी पी जॉय टर्की की निगरानी में टीम का गठन किया गया था।इस सूचना पर पुलिस टीम ने कार्रवाई करते हुए। एक जाल बिछाया गया और 13 सितंबर 19 को, गैंगवार के चार सदस्य द्वारका-छावला रोड पर आते ही आरोपियों को धर दबोचा। था। आरोपी व्यक्तियों को आगे की जांच के लिए 3 दिन के पुलिस रिमांड पर लाया गया।पूछताछ के दौरान, गिरफ्तार अभियुक्तों ने खुलासा किया कि वे पिछले 4 सालों से दिल्ली-एन सी आर क्षेत्र में विभिन्न आपराधिक गिरोहों को अवैध हत्यारो की आपूर्ति कर रहे थे। जिन अपराधियों ने गिरोह से हत्यारो की खरीद की थी। उनकी पहचान की जा रही है। आगे की जांच जारी है।

Releated Post