मध्य जिला थाना कमला मार्किट पुलिस 5 फरवरी को मिली एक अज्ञात लाश की गुत्थी को सुलझाया

@shahzadahmed

कमला मार्किट सिविक सेंटर सिविक सेंटर गोल चककर के पास पुलिस को रात 2 :47 के वक्त प्लास्टिक के बोरे  में लाश मिली जो सड़ी गली हुई लाश थी। आस पास बदबू के कारण किसी ने कॉल कर पुलिस को जानकारी दी थी। लाश की हालत इतनी खराब थी की उसकी पहचान कर पाना मुश्किल था।पुलिस ने मृतक की पहचान के लिए आस पास के जिलों को इतला भेजी। काफी मशक्क्त के बाद  मृतक की पहचान सामने आई। मृतक की पहचान पूदन लाल के नाम से हुई यह  यूपी  बस्ती निवासी था ।यहां रिक्शा चलाने का काम करता था। इसके बेटे द्वारा इसके शव की पहचान करवाई गई।

मध्य जिला के डीसीपी ने अलग अलग टीमों को जांच की जिम्मेदारी सौंपी। जिसमे एक टीम एसीपी ऑपरेशन ओमप्रकाश लेखवाल की देखरेख में स्पेशल स्टाफ इंस्पेक्टर ललित कुमार, सब इंस्पेक्टर  प्रदीप, एएसआई योगेंदर, बलजीत, हैड कांस्टेबल योगेंदर गिरी, आदेश, राकेश सिपाही अमित, तरुण, अनिल, पंकज,  संदीप  दूसरी टीम का संचालन  कमला मार्किट एसीपी कुमार अभिषेक जिसमें एसएचओ कमला मार्किट लेखराज सिंह, इंस्पेक्टर जगदीप मलिक को सौंपा गया सब इंस्पेक्टर गिरिराज, हेड कांस्टेबल अनिल, नरेश, सिपाही प्रदीप, मनोज, रतन लाल महिला सिपाही पूजा  की टीम बनाई गई।

जांच में लगी टीमों को जानकारी मिली की पूदन लाल आसफअली रोड पर बने पुलिस भवन के सामने सोने आता था। पुलिस ने वहाँ से लेकर लाश मिलने के ठिकाने तक लगे सीसीटीवी कैमरों से फुटेज देखी गई।एक  सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से पुलिस को सुराग मिला जिमसे दो लड़के बैटरी रिक्शा में प्लास्टिक का बैग गिराते हुए नज़र आ रहे हैं।

पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की मदद से आरोपी की पहचान हुई और पुलिस ने आस पास इलाके में चलने वाले हज़ारों बैटरी रिक्शा को जांचा उनमें से उस बैटरी रिक्शा का पता चल गया जिसे सीसीटीवी फुटेज में देखा गया।
इलाके से पहचान हुई जिसका नाम होशियार सिंह उर्फ़ मुस्ताक है। जांच के दौरान पता लगा कि होशियार सिंह उर्फ मुस्ताक इलाहाबाद में है। पुलिस टीम ने इलाहाबाद में छापा मार कर मुशताक को पकड़ लिया। होशियार सिंह उर्फ मुस्ताक की गिरफ्तारी के बाद इसके साथी दीपक नाम के आरोपी को भी गिरफ्तार किया गया इसके बाद इस हत्या का मुख्य आरोपी एजाज दिल्ली के रामलीला मैदान से गिरफ्तार किया गया।

पुलिस की पूछताछ के बाद ऐजाज ने हत्या की बात कबूलते हुए बताया की वह बतौर सुलभ शौचालय का कार्यवाहक है। पूदन लाल से उसने अपने जमा 20 हज़ार रूपये मांगे थे क्योंकि उसे अपनी पत्नी के इलाज के लिए रुपयों की सख्त जरूरत थी। पैसों को लेकर झगड़ा बढ़ता चला गया, पूदनलाल गाली गलौच करने लगा। ऐजाज ने पूदन लाल के पीछे मुड़ते ही उसके गले में रस्सी डाली और गला घोट कर उसकी हत्या दी। हत्या के बाद उसका शव शौचालय में ही छुपा दिया।

4 फरवरी को दीपक शौचालय में सफाई के लिये आया तो उसे बदबू आई उसने एजाज को सूचना दी। ऐजाज ने दीपक को बता दिया कि उसने पूदन लाल की 3-4 दिन पहले हत्या करके उसका शव शौचालय में छुपा कर ताला लगा दिया था। एजाज ने दीपक को धमकी दी शव ठिकाने लगाने में उसकी मदद करे वरना हत्या के झूठे मामले में फंसवा देगा। इसी डर के कारण एजाज की बात माननी पड़ी और मदद करने के लिए तैयार हो गया। दोनों ने मिलकर शव को कंबल में लपेटा और प्लास्टिक के बैग में डाल दिया। इसके बाद एजाज ने होसियार सिंह उर्फ मुस्ताक से सम्पर्क किया। उसकी बैटरी रिक्शा में पूदन लाल की लाश को लाद कर रात लगभग 10 :15 बजे कमला मार्किट गोल चक्कर के पास फैक दिया था।

Crimeindelhi.com

#delhipolice #centraldistt #goodwork #dilkipolicedelhipolice

Releated Post