राजघाट से इंडिया गेट तक निकाला विशाल कैंडल मार्च

शहज़ाद अहमद

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल का अनशन 5 दिन भी जारी। समर्थन में राजघाट पहुंची निर्भया की माँ, राज्यसभा सांसद संजय सिंह और पूर्व सांसद शरद यादव।
बलात्कारियों को फांसी देने के लिए एक मजबूत कानून, पुलिस के संसाधन में बढ़ोतरी एवं जवाबदेही और अन्य मांगे लेकर अनशन पर बैठी स्वाति मालीवाल का अनशन आज पांचवे दिन भी जारी है। मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक पिछले 5 दिनों में उनका वजन 3 किलो से ज्यादा कम हो चुका है। उन्नाव में हुए दर्दनाक घटना कि पीड़िता की मृत्यु की खबर सुनकर स्वाति ने अपना दुख जाहिर किया और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से तुरन्त मामले को फ़ास्ट ट्रैक कर दोषियों को सज़ा दिलवाने की अपील करी।स्वाति के आंदोलन को समर्थन देने अनशन स्थल राजघाट पर राज्यसभा के सांसद संजय सिंह और पूर्व मंत्री एवं सांसद शरद यादव। संजय सिंह ने जनता को संबोधित करते हुए कहा की स्वाति सच्ची निष्ठा और श्रद्धा के साथ अपनी जान जोखिम में डालकर महिलाओं के लिए सदैव काम करती आई हैं। उनके द्वारा शुरू किए गए ऐसा अनशन को जहां पूरा देश का समर्थन मिल रहा है वहीं केंद्र में बैठी गूंगी बहरी सरकार के कानों में जो भी नहीं रही थी। संजय सिंह ने उन्नाव में हुई घटना के पीड़िता को नमन करते हुए यह भी कहा कि आज देश में महिलाएं अपने आप को कैसे महसूस सुरक्षित महसूस करें। संजय सिंह ने आश्वासन दिया कि सोमवार से दोनों सदनों में स्वाति की मांगों को उठाने के लिए वह स्वयं और अन्य दल के भी वरिष्ठ नेताओं से बात करेंगे और इन मांगों को सरकार तक पहुंचाने के लिए पूरा दबाव बनाएंगे। उन्होंने स्वाति से अनशन खत्म करने की भी मांग की लेकिन स्वाति ने देश में एक कड़ा कानून बनने तक अनशन जारी रखने की बात कही। पूर्व मंत्री एवम सांसद शरद यादव ने भी स्वाति का समर्थन किया और सरकार से अपील करी की मांगों पर विचार करें। शरद यादव ने स्वाति को अपनी सेहत का ध्यान रखने के लिए भी कहा और उनके संघर्ष की सराहना करी।
अनशन में शामिल होकर अपना समर्थन देने निर्भया की माँ आशा देवी भी राजघाट पहुंचीं। आशा देवी ने मंच से संबोधित करते हुए कहा कि जहां एक तरफ वो स्वाति के अनशन का समर्थन करती हैं वहीं उन्हें ये भी दुख है कि स्वाति को इस प्रकार अपनी सेहत से खिलवाड़ करना पड़ रहा है। उन्होंने अपना दुख जताते हुए कहा कि आज 7 साल बाद भी संसद सड़क और न जाने कहां-कहां हाथ जोड़ने के बाद भी उनकी बेटी को न्याय नहीं मिला। उन्होंने यह भी कहा कि स्वाति जो पिछली बार अनशन पर बैठी थी तब देश में एक कानून तो बना दिया गया लेकिन आज तक एक भी बलात्कारी को फांसी नहीं दी गई, ना जाने ऐसे कितने अनशन स्वाति को करने पड़ेंगे जिसके बाद बलात्कारियों को फांसी होनी शुरू होगी। सोशल मीडिया पर “खाली थाली अनशन” के नाम के नाम से एक कैंपेन भी वायरल हो रहा है जिसमें लोग स्वाति के अनशन को अपना समर्थन देने के लिए खाली थाली पर स्वाति के नाम अपना संदेश लिख अपना समर्थन दे रहे हैं और 1 दिन का उपवास रख रहे हैं। राजघाट से आज एक विशाल केंडल मार्च का भी आयोजन किया गया जिसका नेतृत्व खुद स्वाति मालीवाल ने किया। हजारों की तादाद में लोगों ने हाथ में मोमबत्ती और “उन्नाव के बलात्कारियों को फांसी दो” लिखी तख्तियां लेकर इंडिया गेट तक मार्च किया। मार्च में शामिल लोगों ने उन्नाव की पीड़ित को एक भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी और सरकार से आरोपियों को जल्द से जल्द सजा देने की मांग भी करी। स्वाति ने दुख जताते हुए कहा की आज हमारे आंदोलन से देशभर के लाखों-करोड़ों लोग जुड़ रहे हैं लेकिन फिर भी सरकार की तरफ से कोई भी प्रतिनिधि इन मांगों पर बात करने नहीं आया। उन्होंने यह भी कहा कि वह अपना अनशन किसी भी हाल में तोड़ने वाली नहीं है जब तक इस देश में एक ऐसा सिस्टम नहीं बनाया जाएगा जिसमें बलात्कारियों को 6 महीने के अंदर फांसी दी जाएगी।

Releated Post