सेक्स वर्कर्स को भी मिला लॉक डाउन में फरिश्तों का साथ

 

Ravi Tondak / Shahzad Ahmed 

कुछ अनसुनी कहानियां लॉक डाउन की

उस जगह का नाम सुनते ही लोगों के दिमाग चलते तो है परन्तु काम करना बंद कर देते है

यह वक़्त दुनिया पर काफी मुश्किल और दुःखद है, लोग घरों में बंद है और अपनी जिंदगी जी रहे है जैसे तैसे। कोई भी वर्ग इससे अछूता नहीं। दिल्ली का जाना माना, जिसकी बातें लोग करते तो है बस दबी जुबान से, जी हां वही दिल्ली का रेड लाइट एरिया जी बी रोड। जहां सेक्स वर्कर्स अपना और अपने बच्चो को पालती है और जीवन यापन करती है। इस लॉक डाउन में उनकी जिंदगी भी रुक गई हैं ना खाने का सामान ना ही राशन की राहत।

एसे समय में फरिश्ता बनकर आई सुपर सिख फाउंडेशन की गुरप्रीत वासी और वौइस् ऑफ वोइसलेस फाउंडेशन के मनप्रीत सिंह।

जब सेक्स वर्करस की कहानी सुनी और पर लगा कि उनके पास खाने को उपलब्ध नहीं तो, उनकी पेट की भूख मिटाने और तकलीफ सुनने सामने आयी और मदद की। इन्होंने लंगर लगाकर खाना खिलाया और सूखा राशन भी वितरित किया। उनके बच्चो के लिए चॉकलेट, बिस्केट, और कोल्ड्रिंग बांटी। उन सेक्स वर्करों को सेंट्री नेपकिन भी दिए। यही नही फाउंडेशन के लोगो से प्रेरित होकर और लोग भी आगे आए मदद करने के लिए, और कुछ लोगो ने हमेशा की तरह नजर चूरा ली। आप सभी से अपील हैं जितना हो सके लोगो की मदद कीजिए। घर पर रहे, सुरक्षित रहें।

Crimeindelhi.com

Tags #sexworkers #lifeduringlockdown #sexworkerslifeduringlockdown #coronavirus

Releated Post