शहज़ाद अहमद – नई दिल्ली आधुनिक हाई-टेक (KIOSK- कियोस्क) एन डी एम सी , द्वारा बनाया गया है। और एम्स की मुख्य प्रविष्टि के पास एक रणनीतिक स्थान पर रखा गया है। जो इसे जनता के लिए आसानी से सुलभ बना देता है। आगंतुकों को उनकी शिकायतों या जरूरतों के […]

Continus reading  

अवैध तस्करी सिर्फ दवाओं के बारे में नहीं बल्कि लोगों के बारे में भी है। यह एक समाज को ड्रग फ्री बनाने की मुहीम है. जिसकी नीव संयुक्त राष्ट्र की असेंबली में 26 जून 1987 को रखी गयी थी, और इसी से इसका नाम इंटरनेशनल डे अगेंस्ट ड्रग एब्यूज एंड […]

Continus reading  

भारत में कानूनों की कमी नहीं है. शायद गिनती खत्म हो जाए पर कानून की किताब पूरी ना पढ़ी जाए. आखिर दुनिया का सबसे लम्बा संविधान है भारत का. लेकिन भारत में कुछ कानून समझ से बहार है, या कहे क्रेजी लॉज़ हैं, जिनको जानना अत्यंत आवश्यक है ताकि हमे […]

Continus reading  

भारत में महिलाओं के कानूनी अधिकार महिलाएं हमारे देश का गौरव है और भारत में महिलाओ को देवी का दर्ज़ा दिया गया है. परन्तु, जहां अच्छाई है वह बुराई भी है. इसी वजह से महिलाओ को अपने अधिकारों के लिए लड़ना भी पड़ता है. आजकल सब ज्यादा ट्रिपल तलाक की […]

Continus reading  

हर भारतीय को इन अधिकारों (Rights) के बारे में पता होना चाहिए जो कानून द्वारा हमे दिए गए है. क्या आप कोई भी वाशरूम/टॉयलेट का उपयोग कर सकते है? आप पूछेंगे ये कैसा सवाल है और आपको कोई अपने होटल/रेस्टोरेंट का टॉयलेट उपयोग क्यों करने देगा. पर इसका जवाब हां […]

Continus reading  

सेक्स बिकता है, ठेलो पर नहीं, गली कुच्छो पर नहीं, बिकता है तो चाद्दर के नीचे, कानो की फुसफुसाहट में, आँखों के इशारो में. हमारे देश में संस्कृति के नाम पर सेक्स की चर्चा करना भी वर्जित मानते है. परन्तु ये एक व्यंग्य बनकर रह गया है. सबको सेक्स करना […]

Continus reading