सत्ता, सेक्स और साजिश – भारतीय राजनीति में सेक्स स्कैंडल्स

सेक्स, सीडी और सियासत, जब ये तीनो एक साथ आते है तब शुरू होता है दोस्ती, मतलब, महत्वकांशाओ, मोहब्बत और जूनून का नंगा नांच. और सियासत की बिसात पर होती है साजिश, यही साजिश एक जुर्म को जन्म देती है. विश्व में और भारत में सियासी हस्तियों से लेकर बॉलीवुड के सितारों तक, हर कोई सेक्स स्कैंडल की गिरफ्त में आया है.

sex scandal in india

सबसे सनसनीखेज सेक्स स्कैंडल्स, जिनकी वजह से भारतीय राजनीति को झटका लगा:

ब्रजेश पांडे सेक्स स्कैंडल

बिहार कांग्रेस के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष ब्रजेश पांडे पर एक दलित लड़की ने यौन शौषण का सनसनीखेज आरोप लगाया था. इस वारदात में इनके साथ एक पूर्व आईएएस का बेटा निखिल प्रियदर्शी भी शामिल बताया जा रहा है. पीड़िता की मानें तो उसकी निखिल से व्हाट्सएप और फेसबुक के जरिए उसकी दोस्ती हुई थी और जो शादी तक जा पहुंची.

एक दिन निखिल प्रियदर्शी ने उसे ब्रजेश पांडे के पास भेजा जो उसे पटना के बोरिंग रोड स्थित एक फ्लैट पर ले गया. वहां कोल्ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर पीला दिया. नशे में आने के बाद ब्रजेश पांडे ने उसका यौन शोषण किया. उसने इसका बाद विरोध किया, तो उसके साथ मारपीट की गई. उसने जब भी निखिल से शादी की बात की, उसने उसे बुरी तरह मारापीटा.

आरोप है कि निखिल सेक्स रैकेट चलाता है. वह उसको भी इस रैकेट में काम करने के लिए दबाव बना रहा था.

संदीप कुमार सेक्स स्कैंडल

दिल्ली सरकार आप, के पूर्व मंत्री संदीप कुमार एक सेक्स सीडी आने के बाद अचानक से सेक्स की खबरों में आने लगे. इसके बाद दिल्ली की सरकार से उन्हें बर्खास्त कर दिया गया.

इस सेक्स सीडी में दिखने वाली महिला ने सुल्तानपुरी थाने पहुंचकर संदीप के खिलाफ रेप करने का मामला दर्ज कराया था. महिला का आरोप लगाया कि वह राशन कार्ड बनवाने की खातिर आप मंत्री संदीप कुमार के पास गई थी. संदीप कुमार ने कुछ नशीला पेय पिलाकर उसके साथ रेप किया.

राघवजी लक्ष्मी सावाला सेक्स स्कैंडल

2013 में, मध्य प्रदेश के तत्कालीन वित्त मंत्री राघवजी लक्ष्मी सावला को पुरुष घरेलू सहायता(मेल डोमेस्टिक हेल्पर) से यौन शोषण करने का आरोप लगा था। पीड़ित ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि मंत्री ने उन्हें स्थायी सरकारी नौकरी के लालच देकर यौन शोषण किया था। उस समय राघवजी की उम्र 79 साल रही होगी. जैसे ही सीडी सामने आए, राघवजी को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।

 बाबुलाल नागर सेक्स स्कैंडल

2013 का ये मामला जिसमे जयपुर की एक महिला ने राजस्थान के पूर्व मंत्री बाबूलाल नागर पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। उसने आरोप लगाया कि मंत्री ने उन्हें एक सरकारी नौकरी देने का वादा किया और उसके बाद यौन शोषण किया। महिला ने आरोप लगाया कि मंत्री ने उसे धमकी दी थी कि वह अपना मुँह बंद रखे. जैसे ही ये मामला सामने आया और आरोपों के मद्देनजर नागर को इस्तीफा देना पड़ा।

अभिषेक मनु सिंघवी सेक्स स्कैंडल

२०१२ के सनसनी केस में मनु सिंघवी जो की जाने माने राज्यसभा के सांसद और कांग्रेस के प्रवक्ता थे. और देश के प्रमुख वकीलों में से एक भी है, कथित तौर पर उन्हें उनके सुप्रीम कोर्ट के चैंबर में समझौता करने की स्थिति में पकड़ा गया था।

सिंघवी के ड्राइवर मुकेश कुमार लाल पर सीडी चुपके से बनाने और सिंघवी को सीडी सार्वजनिक करने के लिए ब्लैकमेल करने का आरोप सिद्ध हुआ था. जिसके परिणामस्वरूप, सिंघवी को कांग्रेस प्रवक्ता और कानून और न्याय संबंधी संसदीय स्थायी समिति के अध्यक्ष के रूप से इस्तीफा देना पड़ा।

गोपाल कांडा का मामला

इस जाने माने केस में एयर होस्टेस गीतिका शर्मा कथित तौर पर हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल कांड की लालसा का शिकार बन गयी थी. गीतिका शर्मा एमएलडीआर एयरलाइंस के साथ कार्यरत थी लेकिन कांडा के कथित यौन उत्पीड़न और शादी के इंकार के बाद उसने 2012 में आत्महत्या की। उसके आत्महत्या नोट में, गीतिका ने आरोप लगाया कि कांडा उसे जिंदगी खत्म करने के लिए मजबूर करने के लिए जिम्मेदार थे। कांडा को गिरफ्तार कर लिया गया और इसी के चलते उन्हें उनका पद छोड़ना पड़ा. ४ मार्च 2014 को, दिल्ली उच्च न्यायालय ने कांडा को यौन शोषण के आरोपों से बरी कर दिया और उन्हें जमानत दी गई।

महिपाल मदरना सेक्स स्कैंडल

2011 का जाना माना भंवरी देवी सेक्स स्कैंडल, जिसमें राजस्थान के जल संसाधन मंत्री महिपाल मदरना का नाम सामने आया था, ने अशोक गहलोत सरकार को झटका लगा दिया था. ये केस इतिहास में हमेशा बहुचर्चित सेक्स स्कैंडल के केस में जाना जाता है। इस केस में भंवरी देवी एक सहायक नर्स और मिडवाइफ (एएनएम) थीं।

भंवरी देवी ने कथित तौर पर मदरना और मलखान के साथ एक समझौता करने की कोशिश की थी जिसमें उसने एक वीडियो क्लिप के बदले पैसे की मांग की थी, जिसमें उसने मदरना और कुछ अन्य लोगों के साथ समझौता किया था। आखिरकार, गड़होत सरकार से मदरना को बर्खास्त कर दिया गया था।

उस सीडी में मंत्री आपत्तिजनक हालत में भंवरी देवी के साथ था. इस मर्डर केस से जुड़े सभी लोग मलखान और मधेरणा के लोग थे. बाद में महिपाल मदेरणा को ना सिर्फ मंत्रीपद से इस्तीफा देना पड़ा. बल्कि जेल भी जाना पड़ा. वही हाल मलखान सिंह का भी हुआ.

एन डी तिवारी सेक्स स्कैंडल्स

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री 2009 में आंध्र प्रदेश के राज्यपाल के रूप में सेवा कर रहे थे। वह उस समय 85 वर्ष का था। इस सीडी ने ऐसा रंग दिखाया कि एनडी को राज्यपाल पद से इस्तीफा देकर वापस लौटना पड़ा.

2008 में, रोहित शेखर तिवारी ने पितृत्व का दावा किया कि तिवारी अपने जैविक पिता होने का दावा करते हैं। अदालत के आदेश पर तिवारी का डीएनए कराया गया। जो उनके बेटे रोहित से मैच कर गया|

thoughts/comments